राग बागेश्री

स्वर लिपि

स्वर आरोह में पंचम वर्ज्य, गंधार व निषाद कोमल। शेष शुद्ध स्वर।
जाति षाढव - सम्पूर्ण वक्र
थाट काफी
वादी/संवादी मध्यम/षड्ज
समय रात्रि का दूसरा प्रहर
विश्रांति स्थान सा; म; ध; - सा'; ध; म; ग१;
मुख्य अंग ,नि१ सा म ; सा ग१ म ; ग१ रे सा ; ,नि१ ,ध ; म ध नि१ ध ; म ग१ रे सा;
आरोह-अवरोह सा रे ग१ म ध नि१ सा' - सा' नि१ ध म प ध म ग१ रे सा ,नि१ सा;  

विशेष - राग बागेश्री रात्रि के रागों में भाव तथा रस का स्त्रोत बहाने वाला मधुर राग है। इस राग को बागेसरी, बागेश्वरी आदि नामों से भी पुकारा जाता है। राग की जाति के संबंध में अन्य मत भी प्रचलित हैं, कोई इसे औढव-संपूर्ण तो कोई इसे सम्पूर्ण-सम्पूर्ण मानते हैं। इस राग में रिषभ का प्रयोग अल्प है तथा उस पर अधिक ठहराव नहीं किया जाता। परंतु आरोह में रिषभ वर्ज्य करने से यथा ,नि१ सा म ग१ रे सा अथवा सा ग१ म ग१ रे सा, ये स्वर संगतियाँ राग भीमपलासी की प्रतीत होती हैं। अतः बागेश्री में रे ग१ म ग१ रे सा, इन स्वरों को लेना चाहिए। वैसे ही ,नि१ सा ग१ म इन स्वरों के स्थान पर सा रे ग१ म लेना अधिक उचित प्रतीत होता है।

इसके आरोह में पंचम स्वर वर्ज्य है तथा अवरोह में पंचम का प्रयोग वक्रता से करके इसको राग काफी से अलग किया जाता है। जैसे - सा' नि१ ध म प ध म ग१ रे सा। पंचम का प्रयोग भी अल्प ही है। आरोह में रिषभ और पंचम वर्ज्य करने पर राग श्रीरंजनी सामने आ जाता है। अतः इसकी जाति षाढव-संपूर्ण ही उचित प्रतीत होती है। राग का सौदर्य निखारने के लिये सा म; नि१ ध; ध म इन स्वर समूहों को मींड के साथ प्रयोग मे लाते हैं।

राग बागेश्री का विस्तार तीनों सप्तकों में किया जाता है। यह एक गंभीर प्रकृति का राग है। यह स्वर संगतियाँ राग बागेश्री का रूप दर्शाती हैं -

सा रे सा ; ,नि१ ,नि१ सा ; ,नि१ ,ध ; ,म ,ध ,नि१ ,ध सा; ,ध ,नि१ सा म ; म ग१ ग१ रे सा; ,नि१ ,नि१ सा म ; म ग१; म ध नि१ ध म ; म प ध म ; म ग१ रे सा ; ग१ म ध सा' ध नि१ ध म ; ध सा' रे' सा' नि१ ध म ; म ग१ रे सा ; ग१ म ध नि१ ध नि१ सा' ; नि१ सा' नि१ नि१ रे'; सा' रे' सा' सा'; रे' सा' नि१ सा' ; ध नि१ ध सा' ; म ध ; ध नि१ ध म ; म प ध म ; म ग१ रे सा ,नि१ सा;


राग बागेश्री की बन्दिशें - ये बन्दिशें आचार्य विश्वनाथ राव रिंगे 'तनरंग' द्वारा रचित पुस्तक 'आचार्य तनरंग की बन्दिशें भाग 1' से ली गई हैं। इस पुस्तक में 31 रागों की कुल 285 बन्दिशें और एक Audio CD है। इस पुस्तक को खरीदने के लिये कृपया हमें सम्पर्क करें

1 बडा ख्याल - प्रीत मोरी लागी रे बलमा तनरंग
ताल - एकताल विलम्बित
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
2 सादरा - कटत नाही रतियाँ पिया बिन बिरहा की
ताल - झपताल (मध्य लय)
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
3 छोटा ख्याल - आई सखी मधु रात सुहानी
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
4 छोटा ख्याल - बनवारी तोरे संग ना आज
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
5 छोटा ख्याल - बोले रे नाहीं मितुवा
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
6 छोटा ख्याल - नैन बावरे चैन ना पावे
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
7 छोटा ख्याल - सजना सजना मोरा लागे ना जियरा
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
8 छोटा ख्याल - मानत नाही रे कन्हाई
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
9 छोटा ख्याल - जो हमने तुमसे बात कही
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
10 छोटा ख्याल - भंवर रस ले गये री गये री
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
11 छोटा ख्याल - बेगी चलो बेगी चलो री सखियाँ
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
12 छोटा ख्याल - कैसे कटे रतियाँ पिया बिन
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
13 स्वर सागर - साध सरगम सरस श्याम पद रंग में
ताल - झपताल मध्य लय
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
14 सरगम - म ग रे सा रे ध नि सा म प ध नि ध
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
15 तराना - द्रेतन देरेना तान देरेना
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे