राग बहार

स्वर लिपि

स्वर आरोह में रिषभ और पंचम वर्ज्य। अवरोह में धैवत वर्ज्य। गंधार कोमल, निषाद दोनों। शेष शुद्ध स्वर।
जाति औढव - षाढव वक्र
थाट काफी
वादी/संवादी मध्यम/षड्ज
समय रात्रि का दूसरा प्रहर या वसंत व शरद ऋतु में हर समय गाया जा सकता है।
विश्रांति स्थान सा; म; प; - सा'; म; रे;
मुख्य अंग सा म ; प म ग१ म ; ,नि१ प म ; म नि१ ध नि सा' ; नि१ प म ; प म ; ग१ म रे सा ;
आरोह-अवरोह सा रे सा म ; प म ग१ म ; ध नि सा' - सा' नि१ प म ; ग१ म रे सा ; ,नि सा;  

विशेष: राग बहार, वसंत व शरद ऋत में गाया जाने वाला अत्यंत मीठा राग है। खटके और मुरकियों से महफिल में रंगत जमती है। राग बहार का मध्यम स्वर उसका प्राण स्वर है। अवरोह में मध्यम पर बार बार न्यास किया जाता है। राग बहार का निकटतम राग है राग शहाना-कान्हडा, जिसमें पंचम स्वर पर न्यास किया जाता है। इस राग के मिश्रण से बनाये गये कई राग प्रचिलित हैं यथा - बसंत-बहार, भैरव-बहार, मालकौन्स-बहार, अडाना-बहार इत्यादी।

अवरोह में गंधार वक्र करके लिया जाता है जैसे - ग१ म रे सा ; प म ग१ म। इस राग में रिषभ स्वर कभी-कभी आरोह में इस तरह से उपयोग में लिया जाता है - ग१ म ध नि सा' ; नि रे' सा' ; ध नि सा' रे' ग१' ; रे' ग१' सा' रे' नि सा' ; नि सा' रे' रे' सा' नि सा' ; सा' नि१ ध नि सा' ; नि१ प म ; ग१ म रे सा। यह उत्तरांग प्रधान और चंचल प्रकृति का राग है। श्रंगार और भक्ति रस से यह राग परिपूर्ण है। इस राग में ध्रुवपद, ख्याल, तरानें इत्यादी गाये जाते हैं। यह स्वर संगतियाँ राग बहार का रूप दर्शाती हैं -

रे सा ,नि सा म ; प म ग१ म ; नि१ प म ; म नि१ ध नि सा' ; नि१ प म ;  


राग बहार की बन्दिशें - ये बन्दिशें आचार्य विश्वनाथ राव रिंगे 'तनरंग' द्वारा रचित पुस्तक 'आचार्य तनरंग की बन्दिशें भाग 1' से ली गई हैं। इस पुस्तक में 31 रागों की कुल 285 बन्दिशें और एक Audio CD है। इस पुस्तक को खरीदने के लिये कृपया हमें सम्पर्क करें

1 सादरा - फूली सरसों बहार
ताल - झपताल धीमा
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
2 छोटा ख्याल - ए मन के कमल दल
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
3 छोटा ख्याल - बगीयन फुलवा रंग रंगीले
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
4 छोटा ख्याल - बेलरियाँ फूलन लागी री
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
5 छोटा ख्याल - भँवरा सुमन मकरंद चुरावे
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
6 छोटा ख्याल - साजन अब फूल खिले
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
7 तिल्लाना - धित्ता क्डान तिरकिट
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
8 सरगम - नि प म प ग म
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे