राग चारुकेशी

स्वर लिपि

स्वर धैवत व निषाद कोमल। शेष शुद्ध स्वर।
जाति सम्पूर्ण - सम्पूर्ण
थाट किसी भी थाट के अंतर्गत नहीं
वादी/संवादी षड्ज/मध्यम
समय दिन का दूसरा प्रहर
विश्रांति स्थान रे; ग; म; प; ध१;
मुख्य अंग ,ध१ ,नि१ सा रे ग म ग रे ; रे ग म ध१ प ; रे ग म रे सा;
आरोह-अवरोह सा रे ग म प ध१ नि१ सा' - सा' नि१ ध१ प म ग रे सा ,ध१ ,नि१ सा;

विशेष - राग चारुकेशी अपेक्षाकृत नया राग है जिसे दक्षिण भारतीय संगीत पद्धति से लिया गया है। यह बहुत ही मधुर राग है जिसे तीनों सप्तकों में बिना किसी रोक टोक के गाया जा सकता है। धैवत और निषाद कोमल होने के कारण यह राग उत्तरांग मे अनूठी सुन्दरता दर्शाता है।

इस राग में पंचम स्वर को कभी-कभी आरोह और अवरोह में छोड़ा जाता है जैसे - ग म ध१ प और प ध१ नि१ ध१ म ग रे। इस राग में कई रागों की छाया दिखाई देती है जैसे- सा रे ग म - नट अंग, ग म ध१ प - भैरव अंग, नि१ सा' रे' सा' ध१ ; ध१ नि१ रे सा' - दरबारी की छाया, रे ग म रे सा - नट भैरव अंग। इन सभी अंगों के मिश्रण से ही राग चारुकेशी का अपना स्वतंत्र अस्तित्व सामने आता है।

यह स्वर संगतियाँ राग चारुकेशी का रूप दर्शाती हैं - म ग रे ; ग रे सा ; ,नि१ ,ध१ सा ; सा रे ग म ; रे ग म रे सा ; ग म ध१ प ; म ग रे ; ग म प ध१ नि१ सा' ; ग म ध१ नि१ ; नि१ सा' ; नि१ सा' रे' सा' ध१ ; ध१ नि१ रे' सा' ; नि१ सा' नि१ ध१ प ; प ध१ नि१ ध१ म ; ग रे ग म रे सा ; ,नि१ ,ध१ ,नि१ रे सा ; म प ध१ नि१ सा' रे' ; सा' रे' ग' रे' ; ग' रे' नि१ ध१ सा' ; सा' नि१ ध१ प ; ध१ म ग रे ; ग म ध१ प ; ग म रे सा ; ,नि१ ,ध१ ,नि१ रे सा;


राग चारुकेशी की बन्दिशें - ये बन्दिशें आचार्य विश्वनाथ राव रिंगे 'तनरंग' द्वारा रचित हैं और भविष्य में उनकी अगली पुस्तक में प्रकाशित की जाएंगी। अधिक जानकारी के लिये कृपया हमें सम्पर्क करें

1 बडा ख्याल - आस जगी तोरे दरसन
ताल - एकताल विलम्बित
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
2 ख्याल (मध्य-लय) - सगुन बिचारो हे
ताल - झपताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
3 ख्याल (मध्य-लय) - सुर लय कैसे पाऊँ मै
ताल - झपताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
4 छोटा ख्याल - बलमा तनरंग तेरो नाम
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
5 छोटा ख्याल - मनहरवा रे मितुवा
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
6 छोटा ख्याल - सोवन दे बैरी पिया
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
7 छोटा ख्याल - बेगी बेगी बेगी आए
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
8 छोटा ख्याल - अँसुवन लागी झरी
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
9 छोटा ख्याल - सजनवा मंदिरवा आए
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
10 सरगम - नि ध प म ग रे
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे