राग हेमंत

स्वर लिपि

स्वर आरोह में रिषभ व पंचम वर्ज्य। शेष शुद्ध स्वर।
जाति औढव - संपूर्ण
समय रात्रि का दूसरा प्रहर
विश्रांति स्थान सा; ग; म; ध; नि;
मुख्य अंग ग म ध नि ध ; म (प)म ; नि ध (प)म ; ग म ग रे सा ; ग म ध प म ग रे सा;
आरोह-अवरोह सा ग म ध नि सा' - सा' नि ध प म ग रे सा;

विशेष - राग हेमंत बहुत ही मधुर राग है। राग कौशिक ध्वनि के अवरोह में जब पंचम और रिषभ स्वरों का भी उपयोग किया जाता है, तब राग हेमंत की उत्पत्ति होती है। इस राग में रिषभ को सीधा लगाया जाता है जैसे - ग रे सा परन्तु पंचम स्वर का उपयोग अल्प है और इसे मींड या कण स्वर के रूप में प्रयोग किया जाता है जैसे - ध (प)म या म (प)म

यह राग स्निग्ध और गंभीर वातावरण पैदा करने वाला राग है, जिसे तीनो सप्तकों में उन्मुक्त रूप से गाया जा सकता है। यह स्वर संगतियाँ राग हेमंत का रूप दर्शाती हैं -

सा ग म ध ; प म ; ग रे सा ; ,नि ,ध ; ,म ,ध ,नि सा ; म (प)म ; ग म ध नि ; म ध नि सा' ; सा' रे' सा' नि ध ; नि सा' ध प म ; म प म म ग म ग रे सा ;


राग हेमंत की बन्दिशें - ये बन्दिशें आचार्य विश्वनाथ राव रिंगे 'तनरंग' द्वारा रचित हैं और भविष्य में उनकी अगली पुस्तक में प्रकाशित की जाएंगी। अधिक जानकारी के लिये कृपया हमें सम्पर्क करें

1 छोटा ख्याल - बिसर गए री सजनवा
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
2 छोटा ख्याल - छाड़ चले निरमोही मोहे
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
3 छोटा ख्याल - कलना परे मैको
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
4 छोटा ख्याल - साजना नहीं आये घर
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
5 छोटा ख्याल - तुमसन मोरी लगन लागी है
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
6 सरगम - ग म ध नि सा नि ध
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे