राग काफी

स्वर लिपि

स्वर गंधार व निषाद कोमल। शेष शुद्ध स्वर।
जाति सम्पूर्ण - सम्पूर्ण
थाट काफी
वादी/संवादी पंचम/षड्ज
समय रात्री का द्वितीय प्रहर
विश्रांति स्थान सा प - सा' प रे
मुख्य अंग ग१ रे ; म प ; म प ध प ; ध नि१ सा' ; नि१ ध प;
आरोह-अवरोह सा रे ग१ म प ध नि१ सा' - सा' नि१ ध प म ग१ रे सा;

विशेष - राग काफी रात्रि के समय की भैरवी है। इस राग में पंचम बहुत खुला हुआ लगता है। राग को सजाने में कभी कभी आरोह में गंधार को वर्ज्य करते हैं जैसे - रे म प ध नि१ ध प म प ग१ रे। इस राग कि सुंदरता को बढाने के लिये कभी कभी गायक इसके आरोह में शुद्ध गंधार व निषाद का प्रयोग करते हैं, तब इसे मिश्र काफी कहा जाता है। वैसे ही इसमें कोमल धैवत का प्रयोग होने पर इसे सिन्ध काफी कहते हैं। सा रे ग१ म प ग१ रे - यह स्वर समूह राग वाचक है इस राग का विस्तार मध्य तथा तार सप्तक में सहजता से किया जाता है।

इस राग का वातावरण उत्तान और विप्रलंभ श्रंगार से ओतप्रोत है और प्रक्रुति चंचल होने के कारण भावना प्रधान व रसयुक्त ठुमरी और होली इस राग में गाई जाती है। यह स्वर संगतियाँ राग काफी का रूप दर्शाती हैं -

धप मप मप ग१ रे ; रेग१ मप रेग१ रे ; नि१ ध प म ग१ रे ; म प ध नि१ प ध सा' ; सा' नि१ ध प म प ध प ग१ रे ; प म ग१ रे म ग१ रे सा;


राग काफी की बन्दिशें - ये बन्दिशें आचार्य विश्वनाथ राव रिंगे 'तनरंग' द्वारा रचित पुस्तक 'आचार्य तनरंग की बन्दिशें भाग 1' से ली गई हैं। इस पुस्तक में 31 रागों की कुल 285 बन्दिशें और एक Audio CD है। इस पुस्तक को खरीदने के लिये कृपया हमें सम्पर्क करें

1 सादरा - मोरी बिनती मान ले
ताल - झपताल (मध्य लय)
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
2 ठुमरी - झूलत नन्द किशोर गोपी संग
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
3 ठुमरी - खेलत आज मोसे होरी
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
4 छोटा ख्याल - मधु बाँसुरी नीकी बजाई
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
5 छोटा ख्याल - मुरली मुख पर बिराजे
ताल - एकताल द्रुत
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
6 छोटा ख्याल - निठुवा माने नही आज सखी
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
7 छोटा ख्याल - फूली रात रानी मदभरी
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे
8 सरगम - ग रे नि सा रे ग सा रे प
ताल - त्रिताल
गायक - श्री प्रकाश विश्वनाथ रिंगे


राग काफी - आचार्य विश्वनाथ राव रिंगे 'तनरंग', संगत कलाकार - श्री प्रकाश वि. रिंगे
होरी - आज खेलो श्याम संग होरी ताल - त्रिताल


राग काफी टप्पा - ओ मियाँ जाने वाले - श्री कृष्णा जी टोले